अन्य खबरें अपराध आंध्र प्रदेश

विदिशा / झांकियों का डीजे बंद कराए जाने से विवाद, पुलिस ने भांजी लाठियां

चल समारोह में देर रात 1:30 बजे की घटना, 27 लोग हुए घायल

विदिशा. जिला और पुलिस प्रशासन के अधिकारियों ने शुक्रवार देर रात करीब 1.30 बजे आचार संहिता और कोलाहल अधिनियम का हवाला देते हुए दुर्गा प्रतिमा विसर्जन चल समारोह में डीजे, बैंडबाजे, माइक और ढोल बंद करवा दिए और उनमें तोड़फोड़ कर दी। पुलिस ने कई झांकी संचालकों, उनके समर्थकों और दर्शकों पर भी लाठियां भांजीं। 27 से अधिक लोग घायल हो गए।

 

इसके अलावा अज्ञात लोगों ने माधवगंज में श्री सनातन हिंदू उत्सव समिति और कोतवाली थाने के सामने बने हिंद युवा जागरण मंच के स्वागत मंच को भी तोड़ दिया गया। पुलिस का कहना है दोनों हिंदू संगठनों के आपसी विवाद के कारण ऐसा हुआ है। इससे पुलिस का कोई लेनादेना नहीं है। प्रशासन की कार्रवाई के विरोध में हिंदू उत्सव समिति के पदाधिकारियों ने चल समारोह को बंद करवा दिया और झांकी संचालन का कार्यभार प्रशासन को सौंप दिया। बाद में पुलिस की देखरेख में ही चल समारोह निकाला गया।
एएसपी से कराएंगे जांच : झांकी संचालकों और उनके समर्थकों की पिटाई के मामले में एसपी विनीत कपूर का कहना है रात में कई स्थानों पर शराब के नशे में जो उपद्रवी हंगामा कर रहे थे, उन्हें तितर-बितर करने के लिए हलका बल प्रयोग किया गया था। यदि इस पिटाई से कोई घायल हुआ है तो एएसपी से इस मामले की पूरी जांच करवाकर नियमानुसार कार्रवाई भी होगी। धारा 144 के उल्लंघन के मामले में 3-4 लोगों को चिह्नित किया गया है। उनके खिलाफ केस दर्ज कराया जाएगा। सीसीटीवी कैमरों के जरिए अन्य उपद्रवियों की भी पहचान की जा रही है।