Breaking News अन्य खबरें स्वास्थ्य

अलर्ट / एक ही दिन में 50 संदिग्ध मरीजों की रिपोर्ट जीका पॉजिटिव, 24 मरीज भोपाल के

sider2

No Slide Found In Slider.

भोपाल. ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस (एम्स ) से शनिवार को जीका बुखार के 50 संदिग्ध मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इनमें भोपाल के 24 मरीज हैं। जिनके सैंपल पिछले दिनों जांच के लिए भेजे गए थे। इससे भोपाल में जीका पॉजिटिव मरीजों की संख्या 5 से बढ़कर 29 हो गई है। जबकि प्रदेश में पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 35 से बढ़कर 85 हो गया है। एम्स भोपाल से एक ही दिन में 50 मरीजों की रिपोर्ट जीका पॉजिटिव आने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने अलर्ट जारी किया है। वहीं दूसरी ओर शनिवार को मुख्य सचिव बीपी सिंह ने स्वास्थ्य विभाग के अफसरों को जीका की समीक्षा रोजाना करने के निर्देश दिए हैं।
भोपाल में जीका बुखार से 7 दिन में दूसरी मौत
स्वास्थ्य संचालनालय के अफसरों ने बताया कि प्रदेश के भोपाल, सीहोर और विदिशा से कुल 204 मरीजों के ब्लड जीका जांच के अब तक भेजे जा चुके हैं। इनमें से 85 सैंपल की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। अफसरों ने बताया कि भोपाल में गोविंदपुरा, चार इमली, अवधपुरी, कोलार और ईश्वर नगर सहित दूसरे क्षेत्रों से कुल 60 मरीजों में जीका बुखार के लक्षण मिले थे। जिनमें से 29 पॉजिटिव निकले हैं। इसमें 5 गर्भवती महिलाएं शामिल हैं।
मरीजों को रखा गया सर्विलांस पर : सभी मरीजों को सर्विलांस पर रखा गया है। उनकी सेहत में हो रहे बदलावों के अपडेट जानने के लिए एक निश्चित अंतराल पर सोनोग्राफी कराई गई हैं। ताकि जीका वायरस से उनके गर्भस्थ शिशु के ब्रेन के डेवलपमेंट को पता किया जा सके। सागर जिले में भी जीका वायरस का एक पॉजीटिव मरीज सामने आने के बाद हेल्थ डायरेक्टर डॉ बीएन चौहान शनिवार को सागर पहुंचे। वहां पर माइक्रो प्लान बनाकर 58 टीमों द्वारा द्वारा का छिड़काव कराने के निर्देश दिए हैं।
जीका प्रभावित कॉलोनियों सभी गर्भवती महिलाओं की निगरानी : स्वास्थ्य विभाग की प्रमुख सचिव गौरी सिंह ने बताया कि जीका प्रभावित इलाकों में रह रही गर्भवती महिलाओं की निगरानी की जा रही है। इसमें वो महिलाएं शामिल हैं। जिनको तीन महीने की प्रेगनेंसी है। उन्होंने बताया कि इसके लिए शहरी क्षेत्रों में आशा और उषा कार्यकर्ताओं की ड्यूटी लगा दी गई है। जीका से लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है। यदि किसी व्यक्ति को तेज बुखार आए तो उसकी जांच जरूर करा ले। जीका बुखार के चलते किसी व्यक्ति की मौत नहीं होती है।
अब तक 32 हजार घरों की हो चुकी है जांच : सीएमएचओं डॉ सुधीर जैसानी ने बताया कि रोजाना जीका प्रभावित क्षेत्रों में माइक्रो एक्शन प्लान के हिसाब से दवाओं का छिड़काव कराया जा रहा है। जबकि फीवर और लार्वा सर्वे के लिए 150 टीमों की ड्यूटी लगाई जा रही है। 11 दिन के भीतर अभी तक 565 से ज्यादा गर्भवती महिलाओं की पहचान की गई है। जबकि 550 से ज्यादा से ज्यादा लोगों को फीवर सर्वे में चिंहित किया गया है। एक नवम्बर से अभी तक 11 दिन के भीतर 32 हजार से ज्यादा घरों की जांच हो चुकी है। इसमें से 800 से ज्यादा घरों में मच्छर का लार्वा मिला है।

NUTV Update -
खबर जो सच है
http://www.Nutv.in