Breaking News अन्य खबरें मध्य प्रदेश

मेरा नाम नेता प्रतिपक्ष के लिए नहीं चल रहा, मुझे किसी पद की जरूरत नहीं: शिवराज सिंह

भोपाल. पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने साफ किया है कि नेता प्रतिपक्ष के लिए मेरा नाम नहीं चल रहा है। मुझे पद की जरूरत नहीं है। मैं ऐसे ही नेता रहूंगा। छह जनवरी को भोपाल में भाजपा विधायक दल की बैठक होनी है। इसमें नेता प्रतिपक्ष और उपनेता पर चर्चा की जाएगी। भाजपा ने इसके लिए गृहमंत्री राजनाथ सिंह और प्रदेश प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे को पर्यवेक्षक बनाया गया है।
बदल गया पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का पता; बोले- घर छोटा है, लेकिन दिल हमेशा की तरह बड़ा
शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार को मीडिया से बात कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में किसी के पास बहुमत नहीं है। कांग्रेस की सरकार लंगड़ी है। हम चाहते तो हम भी सरकार बना सकते थे, पर जब भी बनाएंगे पूर्ण बहुमत के साथ। मैं लंगड़ी सरकार नहीं बनाऊंगा। भाजपा का जनता से भावनात्मक जुड़ाव है।
चार महीने में ही हिसाब चुकता कर देंगे : शिवराज ने कहा है कि नेता प्रतिपक्ष के लिए मेरा नाम नहीं चल रहा है। मध्य प्रदेश की विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष कौन होगा? इसका फैसला पार्टी ही करेगी। शिवराज ने कहा कि विकास और जनकल्याण प्रभावित होगा तो भाजपा प्रचंड विरोध करेगी। शिवराज ने भाजपा कार्यकर्ताओं से लोकसभा चुनाव में जुटने का किया आह्वान किया। उन्होंने कहा कि चार महीने में हिसाब चुकता कर देंगे।
नेता प्रतिपक्ष के लिए शिवराज सिंह चौहान का नाम सबसे आगे चल रहा है। वहीं, गुरुवार को भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह और प्रदेश प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे को नेता प्रतिपक्ष चुनने की जिम्मेदारी सौंपी गई है।