Breaking News अन्य खबरें अपराध

चार महीने से फरार फरहान मंडीदीप से गिरफ्तार, श्रुति और हैदर अब भी फरार


संवादाता, ज़ीशान मुजीब
भोपाल. बिल्डर के बेटे का अपहरण कर उसकी हत्या की कोशिश करने वाले आरोपी फरहान की तलाश में पुलिस पुणे तक की खाक छान आई, जबकि वह मंडीदीप में छिपा था। चार महीने तक वह पुलिस से बचता रहा और भोपाल के आसपास ही रहा। पुलिस की टीम ने उसे गुरुवार रात मंडीदीप से गिरफ्तार कर लिया। न्यायालय ने आरोपी को तीन दिन की रिमांड पर चूना भट‌्टी पुलिस को सौंप दिया। वह फरारी के दौरान सीहोर, रायसेन, देवास और इंदौर में रहा। हालांकि पुलिस अब भी इस मामले के आरोपी श्रुति और हैदर का पता नहीं लगा पाई है।
चूना भट्‌टी पुलिस को गुरुवार रात फरहान के मंडीदीप में छिपे होने की सूचना मिली। टीम ने दबिश देकर उसे उसके परिचित के घर से उठा लिया। पूछताछ में फरहान ने बताया कि वह फरारी के दौरान इंदौर, सीहोर, देवास और रायसेन में अपने रिश्तेदारों के यहां छिपता रहा। आरोपियों को पकड़ने में नाकाम पुलिस ने उन पर इनाम बढ़ाकर 10 हजार रुपए कर दिया था। इनाम बढ़ाए जाने के चार दिन बाद ही पुलिस ने फरहान को पकड़ लिया।
टीआई भरत सिंह ठाकुर के अनुसार गत 11 नवंबर 2018 की रात फरहान ने श्रुति और अपने साथियों के साथ मिलकर चूना भट्‌टी में रहने वाले 24 वर्षीय इशान पिता नन्हेलाल का अपहरण कर लिया था। इशान का कसूर सिर्फ इतना था कि वह फरहान के मिमिक्री वाले एक वीडियो में पीछे खड़ा नजर आ रहा था। वह उसमें मिमिक्री नहीं कर हा था। वे उसे कार से शहर में घुमाते रहे और उसके साथ मारपीट की।
आरोपियों से बचने के प्रयास में इशान को धक्का लगा और वह चलती कार से गिर गया था। गंभीर हालत में उसे एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। सिर पर गंभीर चोट आने के कारण वह कई दिनों तक बेहोश रहा। चुनाभट्‌टी पुलिस ने इशान के पिता की शिकायत पर फरहान, श्रुति और हैदर समेत अन्य पर अपहरण और हत्या के प्रयास समेत अन्य धाराओं में मामला दर्ज किया था। दो आरोपियों की पहले ही गिरफ्तारी हो चुकी है। अब श्रुति और हैदर फरार हैं। तीनों पर 10-10 हजार रुपए का इनाम है।