Breaking News अन्य खबरें महाराष्ट्र

महाराष्ट्र / 28 नवंबर को उद्धव ठाकरे लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ, राकांपा-कांग्रेस-शिवसेना गठबंधन ने सरकार बनाने का दावा पेश किया


मुंबई. शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे को होटल ट्राइडेंट में मंगलवार को तीनों दलों के विधायकों की बैठक में शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस गठबंधन का नेता चुना गया। इसके बाद देर शाम महाराष्ट्र विकास अघाड़ी का प्रतिनिधिमंडल राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिलने पहुंचा। इसमें आदित्य ठाकरे के साथ बालासाहेब थोराट, एकनाथ शिंदे, छगन भुजबल सहित कई नेता शामिल थे। उन्होंने राज्यपाल को विधायकों के समर्थन का पत्र सौंपा और सरकार बनाने का दावा पेश किया। उद्धव ‌‌‌ठाकरे 28 नवंबर को शिवाजी पार्क में शाम 6.40 बजे मुुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे।
इससे पहले उद्धव ठाकरे बैठक में पत्नी रश्मि और बेटों आदित्य और तेजस के साथ पहुंचे थे। बैठक खत्म होने के बाद अजित पवार भी राकांपा प्रमुख शरद पवार से मिलने उनके घर सिल्वर ओक पहुंचे।
मैं फडणवीस के हर सवाल का जवाब देने को तैयार- उद्धव
गठबंधन का नेता चुने जाने के बाद उद्धव ने कहा- मैं उन सभी सवालों के जवाब देने को तैयार हूं, जो देवेंद्र फडणवीस ने उठाए। मैं किसी बात से नहीं डरता। झूठ हिंदुत्व का हिस्सा नहीं हैं। जब आपको जरूरत थी तो आपने गले लगा लिया और जब जरूरत नहीं पड़ी तो आपने हमें छोड़ दिया। आपने (भाजपा) ही दूरी बनाने की कोशिश की। मुझे अब जो जिम्मेदारी सौंपी गई है, मैं उसे निभाने को तैयार हूं। मैं अकेला नहीं, मेरे साथ आप सभी मुख्यमंत्री हैं। जो आज हुआ है, वह वास्तविक लोकतंत्र है। हम साथ मिलकर राज्य के किसानों के आंसू पोछेंगे। हम मिलकर एक बार फिर वही महाराष्ट्र बनाएंगे, जिसका सपना छत्रपति शिवाजी महाराज ने देखा था। मैंने कभी भी प्रदेश का नेतृत्व करने का सपना नहीं देखा था। मैं सोनिया गांधी और अन्य को धन्यवाद देना चाहता हूं। हम एक-दूसरे पर विश्वास रखते हुए देश को एक नई दिशा दे रहे हैं।
अजित के आने की अटकलें थी, लेकिन नहीं पहुंचे
कहा जा रहा था कि अजित पवार भी यहां आ सकते हैं। लेकिन, राकांपा विधायक दल के नेता जयंत पाटिल ने कहा कि अजित बैठक में नहीं आएंगे। आखिरकार अजित बैठक में नहीं पहुंचे। रिपोर्ट्स के मुताबिक गठबंधन का नेता चुने जाने के तुरंत बाद तीनों दल राज्यपाल के पास सरकार बनाने का दावा पेश करने जाएंगे। प्रोटेम स्पीकर भाजपा के कालिदास कोलंबकर चुने गए हैं, उन्होंने बुधवार को विधानसभा का पहला सत्र बुलाया है।
सुप्रीम कोर्ट ने कहा था- खुला मतदान हो, कार्यवाही का सीधा प्रसारण किया जाए
महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक उठापटक के बीच विपक्षी दलों (शिवसेना, राकांपा-कांग्रेस) की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार (27 नवंबर) को फ्लोर टेस्ट कराने का आदेश दिया। शीर्ष अदालत ने कहा था कि तुरंत प्रोटेम स्पीकर नियुक्त कर कल शाम 5 बजे तक विधायकों का शपथ ग्रहण करा लिया जाए। इसके बाद गुप्त मतदान के बिना, खुले मतदान (ओपन बैलेट) के जरिए फ्लोर टेस्ट कराएं। विधानसभा की कार्यवाही का सीधा प्रसारण भी हो। इस फैसले के बाद ही देवेंद्र फडणवीस और अजित पवार ने इस्तीफा दे दिया था।
फडणवीस ने कहा- जिन्होंने हॉर्सट्रेडिंग के आरोप लगाए, वे अस्तबल खरीदकर बैठे
फडणवीस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि जब आज सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया और जब बुधवार को बहुमत साबित होना है, तब अजित पवार ने हमसे मुलाकात की और कहा कि कुछ कारणों से वे इस गठबंधन में नहीं रह सकते। उन्होंने अपना इस्तीफा मुझे सौंपा। उनका इस्तीफा आने के बाद हमारे पास भी बहुमत नहीं है। भाजपा ने पहले दिन से एक भूमिका ली थी कि हम किसी विधायक को नहीं तोड़ेंगे। हम हॉर्स ट्रेंडिंग नहीं करेंगे। इसलिए मैं इस्तीफा दे रहा हूं। शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस की सरकार अपने ही बोझ तले दब जाएगी। शिवसेना के नेता सोनिया गांधी के नाम की कसम खा रहे थे। हमें आश्चर्य हुआ कि सत्ता के लिए वे कितने लाचार हैं। जिन्होंने हम पर हॉर्स ट्रेंडिंग का आरोप लगाया, वे तो पूरा अस्तबल खरीदकर बैठे हैं।
कांग्रेस के थोराट नहीं, भाजपा के कोलंबकर प्रोटेम स्पीकर
फडणवीस के इस्तीफे के एक घंटे बाद ही तय हो गया कि भाजपा विधायक कालिदास कोलंबकर प्रोटेम स्पीकर की शपथ ली। इससे पहले कांग्रेस ने बाला साहेब थोराट को प्रोटेम स्पीकर बनाने की मांग की थी। कांग्रेस ने कहा था कि वे विधानसभा में सबसे वरिष्ठ नेता हैं। थोराट 8 बार के विधायक हैं। थोराट को कांग्रेस विधायक दल का नेता भी चुना गया है। राकांपा ने जयंत पाटिल को विधायक दल का नेता चुना है।