Breaking News अन्य खबरें राजनीति

UP पंचायत चुनाव में कांग्रेस को दिखी उम्मीद की किरण, 270 सीटें जीती, 573 में दूसरे नंबर पर

sider2

download (3)
download (3)
118256636
download (4)
revoltics-bhanpur-bhopal-stabiliser-manufacturers-2cp920y
IMG_20210208_224509
maxresdefault
triber-vs-kwid
thumb
maharashtra-tourism
11977026732277706352
narendra_modi_corona
download (3) download (3) 118256636 download (4) revoltics-bhanpur-bhopal-stabiliser-manufacturers-2cp920y IMG_20210208_224509 maxresdefault triber-vs-kwid thumb maharashtra-tourism 11977026732277706352 narendra_modi_corona

UP Panchayat Chunav Result: कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू का कहना है कि जिला पंचायत सदस्य की 270 सीटों पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की है. यही नहीं जिला पंचायत की 573 सीटों पर पार्टी दूसरे जबकि 713 सीटों पर तीसरे स्थान पर रही है. उन्होंने कहा कि बीजेपी और समाजवादी पार्टी निर्दलीय प्रत्यशियों को भी अपना ही बता रही हैं.

यूपी कांग्रेस पंचायत चुनाव में अपने प्रदर्शन से भविष्य में उम्मीद देख रही है.

लखनऊ. उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव में परिणाम (UP Panchayat Chunav Result) आने के साथ ही सभी पार्टियां तमाम गुणा-भाग में लग गई हैं. सभी का लक्ष्य 2022 विधानसभा चुनाव है, लिहाजा सभी इस पंचायत चुनाव में दमदार प्रदर्शन का दावा कर रही हैं. इसी क्रम में कांग्रेस पार्टी भी अपने प्रदर्शन को लेकर उत्साहित है. उसे उम्मीद की किरण दिखाई दे रही है. कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू का कहना है कि जिला पंचायत सदस्य की 270 सीटों पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की है. यही नहीं जिला पंचायत की 573 सीटों पर पार्टी दूसरे नंबर पर रही है, जबकि 713 सीटों पर तीसरे स्थान पर रही है.

अजय कुमार लल्लू ने आरोप लगाया कि बीजेपी और समाजवादी पार्टी अब निर्दलीय प्रत्यशियों को भी अपना ही बता रही हैं. बता दें पंचायत चुनाव के सभी नतीजे लगभग घोषित हो चुके हैं. हालांकि कई जगहों पर अभी आधिकारिक घोषणा होनी बाकी है. जिला पंचायत सदस्य चुनाव के भी नतीजे आ चुके हैं. समाजवादी पार्टी ने सत्तारूढ़ बीजेपी को पछाड़ते हुए बढ़त बना ली है.

अब तक सपा ने 742 और बीजेपी ने 679 सीटें जीतीं

अब तक जारी परिणाम के मुताबिक समाजवादी पार्टी समर्थित 742 उम्मीदवारों ने जीत दर्ज की है, जबकि बीजेपी समर्थित 679 प्रत्याशी जीते हैं. बसपा समर्थित 320 प्रत्याशी जीतने में कामयाब रहे. वहीं कांग्रेस व अन्य दलों सहित 1309  निर्दलीयों ने जिला पंचायत चुनाव में बाजी मारते हुए कई जिलों में जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी की चाबी अपने हाथ में रखी है.

समाजवादी पार्टी की जीत पर पार्टी प्रवक्ता डॉ अनुराग भदौरिया ने कहा कि पंचायत चुनाव में समाजवादी पार्टी ने बनारस, प्रयागराज और अयोध्या जैसे जिलों में बीजेपी को धूल चटा दी है. इतना ही नहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गृह जनपद गोरखपुर में समाजवादियों ने बीजेपी के नाक में दम कर रखा है.

जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए जोड़तोड़ शुरू

जिला पंचायत चुनाव में बीजेपी और समाजवादी पार्टी के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिली. लेकिन अब परिणाम आने के बाद सबसे बड़ी लड़ाई जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी के लिए शुरू होगी. कई जिलों में किसी भी दल को बहुमत न मिलने की स्थिति में जोड़तोड़ का खेल भी शुरू हो गया है. जिला पंचायत अध्यक्ष की चाबी इस बार निर्दलीयों के पास है. हालांकि उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री और सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थ नाथ सिंह का दावा है कि बीजेपी ने पंचायत चुनावों में 900 से ज्यादा सीटें जीती हैं और 400 निर्दलीय पार्टी के संपर्क में हैं. लिहाजा अब सभी की निगाहें जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर है. सभी 75 जिलों में कौन अपने दल के प्रतिनिधि को काबिज करवा पाता है, यह देखना दिलचस्प होगा।

पिछली बार सपा का ये था दावा

गौरतलब है कि पिछले पंचायत चुनाव की बात करें तो सपा ने दावा किया था कि उसने 3121 सीटों में से 70 फीसदी यानी 2184 सीटों पर जीत दर्ज की है.इस तरह देखा जाए तो उसकी सीटों में इस बार भारी गिरावट आई है. फिर भी सपा की सीटें भाजपा से अधिक हैं. वर्ष 2015 में बसपा ने भी बेहतर प्रदर्शन किया था. वह दूसरे, बीजेपी तीसरे व कांग्रेस चौथे स्थान पर रही थी.

NUTV Update -
खबर जो सच है
http://www.Nutv.in